Prithviraj Chauhan · March 22, 2017 4,919

वीर राजपूत शेर सिंह राणा पृथ्वी राज चौहान की अस्तियाँ गजनी से लाते हुए

Veer rajput sher singh rana

अपने फरारी के दिनों के बारे में राणा ने जो खुलासा किया वह आश्चर्यजनक था।

राणा ने दावा किया कि अफगानिस्तान के गजनी इलाके में हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान की रखी अस्थियों के अपमान की जानकारी मिलने को लेकर वह बेहद दुखी था और उसने उसे वापस लाने की ठानी। फरारी के बाद उसने सबसे पहले रांची से फर्जी पासपोर्ट बनवाया।नेपाल,बांग्लादेश,दुबई होते हुए अफगानिस्तान पहुंचा। जान जोखिम में डालते 2005 में वह अस्थियां लेकर भारत आया। राणा ने पूरे घटनाक्रम की वीडियो भी बनाई। ताकि वह अपनी बात को प्रमाणित कर सके। बाद में राणा ने अपनी मां की मदद से गाजियाबाद के पिलखुआ में पृथ्वीराज चौहान का मंदिर बनवाया, जहां पर उनकी अस्थियां रखी गई।

Comments